Zainab ne kaha Ghar to Luta Aayi hun Nana

Noha

zainab ne kaha ghar ko luta aayee hoon naana
zakhmo ke siva kuchh bhee nahin laayee hoon amma

chaadar to mere sar kee na bach paayee hai mujhase
islaam tumhaara main bacha laayee hoon naana

durre to mere jism par lagate rahe lekin
roee hoon na tadapee hoon na chillaee hoon naana

vo vaqt bhee aaya ke tadapate rahe bachche
main unako dilaasa bhee na de paayee hoon naana

jab shaam ke baajaar mein beparda phiree hoon
rusvaee ke ehasaas se tharraee hoon naana

rone se sakeena ke nikalata tha kaleja
varana main kisee vaqt bhee na ghabaraee hoon naana

rassee ke nishaan jo mere baazoo pa lage hain
vo tumako dikhaane ke lie aayee hoon naana

ab mere bhee ghar mein na kabhee hoga ujaala
main donon charaagon ko bhujha aayee hoon naana

do bhaee mere saath the jab ghar se chalee thee
ab laut ke ghar aayee to bin bhaee hoon naana

roe na kisee gam mein nazeer aap ke aage
main us ke lie itanee dua laayee hoon naana


ज़ैनब ने कहा घर को लुटा आयी हूँ नाना
ज़ख्मो के सिवा कुछ भी नहीं लायी हूँ अम्मा

चादर तो मेरे सर की ना बच पायी है मुझसे
इस्लाम तुम्हारा मैं बचा लायी हूँ नाना

दुर्रे तो मेरे जिस्म पर लगते रहे लेकिन
रोई हूँ न तड़पी हूँ न चिल्लाई हूँ नाना

वो वक़्त भी आया के तड़पते रहे बच्चे
मैं उनको दिलासा भी ना दे पायी हूँ नाना

जब शाम के बाजार में बेपर्दा फिरी हूँ
रुस्वाई के एहसास से थर्राई हूँ नाना

रोने से सकीना के निकलता था कलेजा
वरना मैं किसी वक़्त भी ना घबराई हूँ नाना

रस्सी के निशाँ जो मेरे बाज़ू पा लगे हैं
वो तुमको दिखाने के लिए आयी हूँ नाना

अब मेरे भी घर में ना कभी होगा उजाला
मैं दोनों चराग़ों को भुझा आयी हूँ नाना

दो भाई मेरे साथ थे जब घर से चली थी
अब लौट के घर आयी तो बिन भाई हूँ नाना

रोए ना किसी ग़म में नज़ीर आप के आगे
मैं उस के लिए इतनी दुआ लायी हूँ नाना

2 replies on “Zainab ne kaha Ghar to Luta Aayi hun Nana”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *