loriyan deke sulati rahi man asagar ko
shabe aashoor sukoon tha na dile madar ko
loriyan deke sulati rahi man asagar ko

dekhakar khushk zabaan kahati thi ro ro ke rabaab
pani lillaah koi lado mere dilabar ko
loriyan deke sulati rahi man asagar ko

haye atthaara baras naaz se pala tha jise
kaise man ran ki ijazat de Ali Akabar ko
loriyan deke sulati rahi man asagar ko

bediyan tauqe garan sham vo kufe ka safar
khoob ummat ne ye purase diya us lagar ko
loriyan deke sulati rahi man asagar ko

chid gai mashke sakeena na rahe usake chacha
kaise shabbeer sunayen ye khabar dukhatar ko
loriyan deke sulati rahi man asagar ko

bole Abbaas se shah jao na tum sooe faraat
ab to dhaaras hai faqat tum se dile khwahar ko
loriyan deke sulati rahi man asagar ko

bole hur shah se mujhe dijiye marane ki raza
aap par hoke fida paunga main kausar ko
loriyan deke sulati rahi man asagar ko

anjuman hai ye azadare imame mazaloom
hashar tak yun hi manayenge ghame saravar ko
loriyan deke sulati rahi man asagar ko

karabala aaj bhi khon baar hai is gham mein Waseem
bekhata kar diya taraj nabi ke ghar ko
loriyan deke sulati rahi man asagar ko


लोरियाँ देके सुलाती रही मां असग़र को
शबे आशूर सुकूं था ना दिले मादर को
लोरियाँ देके सुलाती रही मां असग़र को

देखकर खुश्क ज़बां कहती थी रो रो के रबाब
पानी लिल्लाह कोई लादो मेरे दिलबर को
लोरियाँ देके सुलाती रही मां असग़र को

हाय अट्ठारा बरस नाज़ से पाला था जिसे
कैसे मां रन की इजाज़त दे अली अकबर को
लोरियाँ देके सुलाती रही मां असग़र को

बेड़ियां तौक़े गरां शाम वो कुफे का सफर
खू़ब उम्मत ने ये पुरसे दिए उस लाग़र को
लोरियाँ देके सुलाती रही मां असग़र को

छिद गई मश्के सकीना ना रहे उसके चचा
कैसे शब्बीर सुनाए ये ख़बर दुख़तर को
लोरियाँ देके सुलाती रही मां असग़र को

बोले अब्बास से शह जाओ ना तुम सूए फरात
अब तो ढारस है फक़त तुम से दिले ख़्वाहार को
लोरियाँ देके सुलाती रही मां असग़र को

बोले हुर शह से मुझे दिजिए मरने की रज़ा
आप पर होके फिदा पाऊंगा मैं कौसर को
लोरियाँ देके सुलाती रही मां असग़र को

अंजुमन है ये अजा़दारे इमामे मज़लूम
हशर तक यूं ही मनाएंगे ग़मे सरवर को
लोरियाँ देके सुलाती रही मां असग़र को

करबला आज भी खूं बार है इस ग़म में वसीम्
बेख़ता कर दिया ताराज नबी के घर को
लोरियाँ देके सुलाती रही मां असग़र को