karabal ki kahaani jab koi bhee sunaega
dilavaalaun ki aakhon se ek dariya bahaayega

vo kaaphila saravar ka jo shaan se nikala tha
sugara ko khabar kya thee na laut ke aaega

zahara zahara purasa lo 72 ka

tootee hai kamar shaah kee ghabara naakabar
farazande nabi teree mayyat ko uthaega

zahara zahara akabar ka bhee purasa lo

tha haathon ka kuchh gam na dilabar ko
saidaaniyon ka parda ab kaun bachaega

zahara zahara abbaas ka purasa lo

paamaal huva kaasim jab ghodo kee taapon se
kis taraha chacha teree mayyat ko uthaega

zahara zahara qasim ka bhee purasa lo

sote hee na asagar jhoole me tadapate the
maadar ko khabar kya thee ek teer sulaega

zahara zahara asagar ka bhee purasa lo

saravar ne uthaaye the sab saathiyon ke laashen
shabbeer tera laasha ab kaun uthaega

zahara zahara shabbeer ka purasa lo


करबल की कहानी जब कोई भी सुनाएगा
दिलवालो की आखों से एक दरिया बहायेगा

वो काफिला सरवर का जो शान से निकला था
सुगरा को खबर क्या थी ना लौट के आएगा

ज़हरा ज़हरा पुरसा लो 72 का

टूटी है कमर शाह की घबरा ना अकबर
फ़रज़न्दे नबी तेरी मय्यत को उठाएगा

ज़हरा ज़हरा अकबर का भी पुरसा लो

था हाथों का कुछ ग़म ना दिलबर को
सैदानियों का पर्दा अब कौन बचाएगा

ज़हरा ज़हरा अब्बास का पुरसा लो

पामाल हुवा कासिम जब घोड़ो की टापों से
किस तरहा चचा तेरी मय्यत को उठाएगा

ज़हरा ज़हरा कासिम का भी पुरसा लो

सोते ही न थे असग़र झूले मे तड़पते थे
मादर को ख़बर क्या थी एक तीर सुलाएगा

ज़हरा ज़हरा असगर का भी पुरसा लो

सरवर ने उठाये थे सब साथियों के लाशें
शब्बीर तेरा लाशा अब कौन उठाएगा

ज़हरा ज़हरा शब्बीर का भी पुरसा लो