Ghar Se Jab Bahr-e-Safar Syed-e-Aalam Nikle

Marsia

घर से जब बहरे सफर सय्यद-ए-आलम निकले
सर झुकाये हुए बादीदा-ए-पुरनम निकले
खेशो फ़रज़न्द कमर बान के बाहम निकले
रोके फ़रमाया के इस शहर से अब हम निकले

रात से गिरया-ए-ज़ेहरा की सदा आती है
देखें क़िस्मत हमें किस दश्त में ले जाती है


रुख किया शह ने सुए क़ब्र-ए-शहंशाहे अनाम
बहर-ए-तस्लीम झुके मुत्तासिले बाबे सलाम
इज़्न पढ़ कर जो गए क़ब्र के नज़दीक इमाम
अर्ज़ की आया है आज आखरी रुखसत को ग़ुलाम

ये मकां हम से अब ए शाहे ज़मन छुटता है
आज हज़रत के नवासे से वतन छुटता है


चैन से सब है घरों में मुझे मिलता नहीं चैन
सख्त आफत में है अब आपका ये नूरु-ल-ऍन
टुकड़े दिल होता है जब रोके हरम करते हैं बैन
नन्हे बच्चों को भला लेके किधर जाये हुसैन

शहर में चैन न जंगल में अमां मिलती है
देखिये क़ब्र मुसाफिर को कहाँ मिलती है


अब मेरे सर के लिए तेज़ हुआ है खंजर
अहले कीं शर पा कमर बंधे हैं या खैरे बशर
आप ने दी थी इसी रोज़ की अम्मा को खबर
वालेदा रोई थी दो रोज़ तलक पीट के सर

इस नवासे को मगर भूल न जाना हज़रत
ज़िब्हा के वक़्त मदद करने को आना हज़रत


ये वो दिन हैं के परिंदे भी नहीं छोड़ते घर
मुझको दर पेश है इन रोज़ों में आफत का सफर
है कहीं क़त्ल का सामां कहीं लुट जाने का डर
साथ बच्चों का है ए बादशाहे जिन्नो बशर

तंग जीने से हूँ पास अपने बुला लो नाना
अपनी तुर्बत में नवासे को सुला लो नाना


ये बयां कर के जो तावीज़ से लिपटे सरवर
यूँ हिली क़ब्र के थर्राई ज़रीहे अनवर
आयी तुर्बत से ये आवाज़े हबीबे दवार
तेरी ग़ुरबत के मैं सदक़े मेरे मज़लूम पिसर

कोई समझा न मेरी गोद का पाला तुझको
हाय आदा ने मदीने से निकाला तुझको


ए मेरे गेसुओं वाले मेरे साबिर शब्बीर
मेरे बेकस मेरे मज़लूम मुसाफिर शब्बीर
ना रहा कोई तेरा यावरो नासिर शब्बीर
हाय ए गोर ग़रीबां के मुजाविर शब्बीर

तू जहाँ जायेगा प्यारे वहीँ चलता हूँ मैं
खाक उडाता हुआ तुर्बत से निकलता हूँ मैं


कई दिन से तेरी मादर को नहीं क़ब्र में चैन
आयी थी शब् को मेरे पास ये करती हुई बैन
घर मेरा लुटता है फर्याद रसूलुस सक़लैन
सुबह को अपना वतन छोड़ के जाता है हुसैन

कहने आयी हूँ के मुंह क़ब्र से मोड़ूंगी मैं
अपने बच्चे को अकेला तो न छोड़ूंगी मैं


सुनके ये शह ने किया आखरी रुखसत का सलाम
निकले रोते हुए जब रोज़ए अनवर से इमाम
शह से उस दम ये किया रो रो ज़ैनब ने कलाम
क़ब्र पर मां की मुझे ले चलो या शाहे अनाम

लोग हमराह हैं महमिल है क्यों कर रोऊँ
मां की तुर्बत से फिर एक बार लिपट कर रोऊँ


माँ की तुर्बत पे गए शाह बा चश्मे खून बार
उत्तरी महमिल से बसद आहो फुगाँ ज़ैनबे ज़ार
दौड़ कर क़ब्र से लिपटे जो इमामे अबरार
हाथ ज़ेहरा के लहद से निकल आये एक बार

आयी आवाज़ न रो दिल को क़लक़ होता है
क़ब्र हिलती है कलेजा मेरा शक़ होता है


हाँ बुलाओ मेरा अब्बासे दिलावर है किधर
वो फ़िदा है मेरे बच्चे पा मैं सदक़े उस पर
शिकमे ग़ैर से है पर वो मेरा है पिसार
ये सदा सुन के बरदार को पुकारे सरवर

अभी रहवार को आगे न बढ़ाओ भाई
याद फरमाती हैं अम्मा इधर आओ भाई


आके अब्बास ने सर रख दिया पाईने मज़ार
आयी ज़ेहरा की साद मैं तेरी ग़ुरबत के निसार
अपने प्यारों के बराबर मैं तुझे करती हूँ प्यार
ध्यान भाई की हिफाज़त का रहे ए दिलदार

कोई ग़ुरबत में उसे मार न डाले बेटा
मेरा शब्बीर है अब तेरे हवाले बेटा


ghar se jab behre safar sayyad-e-aalam nikle
sar jhukaye huae badeda-e-purnam nikle
quesho farzand kamar baand k baham nikle
roke farmaya k is shaher se ab hum nikle

raat se giryae zehra ki sada aati hai
dekhein qismat hamein kis dasht main le jati hai


rukh kiya sheh ne suae qabr-e-shahanshae anam
bahr-e-tasleem jhuke muttasile babe salam
izn pakar jo gaye qabr ke nazdeek imam
arz ki aaya hai aaj aakhri rukhsat ko ghulam

yeh makaan hum se ab ay shahe zaman chutta hai
aaj hazrat k nawase se watan chutta hai


chain se sub hai gharon main mujhe milta nahi chain
sakht aafat main hai ab aapka yeh noor-ul-aain
tukde dil hota hai jab roke haram karte hain bain
nanhay bachcho ko bhala leke kidhar jaye hussain

shahr mein chain na jungal main aman milti hai
dekhiye qabr musafir ko kahan milti hai


ab mere sar ke liye tez huae hain khanjar
ahl-e-qeen shar pe kamar bandhe hain ya qaire bashar
aapne di thi isi roz ki amma ko khabar
waleda roye thi do roz talak peet k sar

is nawase ko magar bhool na jana hazrat
zibha k waqt madad karne ko aana hazrat


yeh woh din hai k parinde bhi nahin chodte ghar
mujh ko dar pesh hai in rozon main aafat ka safar
hai kaheen qatl ka saman kahin lut jaane ka dar
sath hai bachon ka ay badshahhe jinoo bashar

tang jeene se hoon paas apne bulalo nana
apni turbat main nawase ko chupalo nana


yeh bayan karkay jo taveez say liptay sarwar
youn hili qabr k tharrai zari-hy-anwar
aayi turbat se yeh aawaazey habib-e-dawar
teri ghurbat k main sadqe mere mazloom pisar

koi samjha na meri goud ka pala tujhko
hay aada ne madinay se nikala tujhko


ay mere gaysuon wale mere sabir shabbir
mere bekas mere mazloom musafir shabbir
na raha koi tera yawar-o-nasir shabbir
haye ay gor-e-ghariba k mujabir shabbir

tu jahan jayega pyare wahin chalta hoon main
khaak udata hua Turbat say nikalta hoon main


kai din say Teri maadar ko nahi qabr mai chain
aai thi shab ko mere paas yeh karti hui bain
ghar mera lutta hai faryaad rasool us saqalain
subha ko apna watan chod k jata hai hussain

kehne aayi hoon k muh qabr se modungi main
apnay bache ko akela to na chodungi main


sunkey yeh sheh ne kiya aakhri rukhsat ka salam
nikle rote huae jab roza-e-anwar se imam
sheh se us dam yeh kiya ro-ro k zainab nay kalam
qabr par maa ki mujhe lechalo ya shahey anam

log hamrah hai mahmil hai kyu kar roun
maa ki turbat say phir ek baat lipat kar roun


maa ki turbat pe gaye shah ba chashme khuoon baar
utri mahmil se basad ah-o–fughaan zainab-e-zaar
doud kar qabr se lipte jo imame abraar
hath zehra k lahad se nikal aaye ek baar

aai aawaz na ro dil ko qalaq hota hai
qabr hilti hai kaleja mera shak hota hai


haan bulao mera abbas-e-dilawar hai kidhar
wo fida hai mere bache pe main sadqe uspar
shikam-e-ghair se hai par woh mera hai pisar
yeh sada sun k baradar ko pukare sarwar

abhi rahwar ko aage na badhao bhai
yaad farmati hai amma idhar aao bhai

3 replies on “Ghar Se Jab Bahr-e-Safar Syed-e-Aalam Nikle”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *