Ae Husain Marhaba – Ae Husain Marhaba

Noha

ai husain marahaba ai husain marahaba
aa rahee thee arsh se karbala mein ye sada
toone jo kaha tha mere roobaroo vahee kiya
ai husain marahaba ai husain marahaba

zinda mere deen ka har usool tujhase hai
too mere rasool se hai aur rasool tujh se hai
ai mere habeeb ke habeeb jaane mustufa
ai husain marahaba ai husain marahaba

dagamaga saka na koee zulm bhee tere qadam
toone rakh lee haq kee laaj aur deen ka bharam
toone vo kiya jo koee aajatak na kar saka
ai husain marahaba ai husain marahaba

too bhee apane vaqat ka jaree hai aur diler hai
kyon na ho mere alee mere asad ka sher hai
hai yahee dilo jigar yahee hai azmon hausala
ai husain marahaba ai husain marahaba

tere imtehaan par nisaar meree kaayanaat
tujh ko tere saathiyon ko doonga daayamee hayaat
hashr tak bajega jag me danka tere naam ka
ai husain marahaba ai husain marahaba

too hasan ke baad is jahaan me benazeer hai
haidaree hai khoo rago me faatma ka sheer hai
sar kata ke sar karega aaj too ye maraka
ai husain marahaba ai husain marahaba

hashr tak bapa teree majalisen karoonga main
daamano ke tere doston ke bhee bharoonga main
toone mere vaaste jo bhee tha luta diya
ai husain marahaba ai husain marahaba

gamagee ne likha jo nauha mujhako bhee pasand hain
ye azal se hee tera gulaam dard mand hain
tera sadaqa hashr me karoonga main ise ata
ai husain marahaba ai husain marahaba


ऐ हुसैन मरहबा ऐ हुसैन मरहबा
आ रही थी अर्श से कर्बला में ये सदा
तूने जो कहा था मेरे रूबरू वही किया
ऐ हुसैन मरहबा ऐ हुसैन मरहबा

ज़िंदा मेरे दीन का हर उसूल तुझसे है
तू मेरे रसूल से है और रसूल तुझ से है
ऐ मेरे हबीब के हबीब जाने मुस्तुफ़ा
ऐ हुसैन मरहबा ऐ हुसैन मरहबा

डगमगा सका ना कोई ज़ुल्म भी तेरे क़दम
तूने रख ली हक़ की लाज और दीन का भरम
तूने वो किया जो कोई आजतक न कर सका
ऐ हुसैन मरहबा ऐ हुसैन मरहबा

तू भी अपने वक़त का जरी है और दिलेर है
क्यों न हो मेरे अली मेरे असद का शेर है
है यही दिलो जिगर यही है अज़्मों हौसला
ऐ हुसैन मरहबा ऐ हुसैन मरहबा

तेरे इम्तेहान पर निसार मेरी कायनात
तुझ को तेरे साथियों को दूंगा दायमी हयात
हश्र तक बजेगा जग मे डंका तेरे नाम का
ऐ हुसैन मरहबा ऐ हुसैन मरहबा

तू हसन के बाद इस जहाँ मे बेनज़ीर है
हैदरी है खू रगो मे फ़ात्मा का शीर है
सर कटा के सर करेगा आज तू ये मरका
ऐ हुसैन मरहबा ऐ हुसैन मरहबा

हश्र तक बपा तेरी मजलिसें करूँगा मैं
दामनो के तेरे दोस्तों के भी भरूँगा मैं
तूने मेरे वास्ते जो भी था लुटा दिया
ऐ हुसैन मरहबा ऐ हुसैन मरहबा

ग़मगी ने लिखा जो नौहा मुझको भी पसंद हैं
ये अज़ल से ही तेरा ग़ुलाम दर्द मंद हैं
तेरा सदक़ा हश्र मे करूँगा मैं इसे अता
ऐ हुसैन मरहबा ऐ हुसैन मरहबा

2 replies on “Ae Husain Marhaba – Ae Husain Marhaba”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *