aa rahi hai ye sadayen paun ki zanjeer se
zore batil ko mitaya sabr ki shamasheer se

khud ko jhoole se giraaya den bachane ke lien
istegasa jab suna besheer ne shabbeer se
aa rahi hai ye sadayen paun ki zanjeer se

mahave girariya mustfa zehara ali shabbar bhi the
karbala mein jab gale kate gae shamasheer se
aa rahi hai ye sadayen paun ki zanjeer se

hil gaya arshe moalla hil gai sari zameen
huramala ne jis ghadi cheda gala ek teer se
aa rahi hai ye sadayen paun ki zanjeer se

kaun jeeta kaun haara karabala ki jang mein
poochta tha hye zaalim shah ki hamasheer se
aa rahi hai ye sadayen paun ki zanjeer se

to javaban zainabe muztar ne zaalim se kaha
faisala ye ho chuka hai naare takabeer se
aa rahi hai ye sadayen paun ki zanjeer se

satsoo kurshi nashin hain ik naheefo natavan
sab ke sab ghabara gye us sahibe tauqeer se
aa rahi hai ye sadayen paun ki zanjeer se

sabaro isaaro wafa ka aaj bhi dekho ziya
dars milata hai jahan ko hazarate shabbeer se
aa rahi hai ye sadayen paun ki zanjeer se


आ रही है ये सदाऐं पाओं की ज़ंजीर से
जो़रे बातिल को मिटाया सब्र की शमशीर से

खुद को झूले से गिराया दीं बचाने के लिए
इस्तेगा़सा जब सुना बेशीर ने शब्बीर से
आ रही है ये सदाऐं पाओं की ज़ंजीर से

महवे गिररिया मुस्तुफा ज़ेहरा अली शब्बर भी थे
कर्बला में जब गले काटे गए शमशीर से
आ रही है ये सदाऐं पाओं की ज़ंजीर से

हिल गया अर्शे मोअल्ला हिल गई सारी ज़मीं
हुरमला ने जिस घड़ी छेदा गला एक तीर से
आ रही है ये सदाऐं पाओं की ज़ंजीर से

कौन जीता कौन हारा करबला की जंग में
पूछता था हाए ज़ालिम शाह की हमशीर से
आ रही है ये सदाऐं पाओं की ज़ंजीर से

तो जवाबन ज़ैनबे मुज़्तर ने ज़ालिम से कहा
फैसला ये हो चुका है नारे तकबीर से
आ रही है ये सदाऐं पाओं की ज़ंजीर से

सात सौ कुर्शी नशी हैं इक नहीफो नताव
सब के सब घबरा गए उस साहिबे तौकी़र से
आ रही है ये सदाऐं पाओं की ज़ंजीर से

सबरो इसारो वफ़ा का आज भी देखो ज़िया
दर्स मिलता है जहाँ को हज़रते शब्बीर से
आ रही है ये सदाऐं पाओं की ज़ंजीर से